Tuesday, July 1, 2008

हिन्दोस्तान की हम हैं शान

नज़र उठाई धरा पर जिसने आँख फोड़ कर आयेंगे|
गर दुश्मन ने हाँथ उठाया खून की नदी बहाएंगे |
दिल में एक तूफ़ान छिपा है सीना है फौलादी|
हमको अपनी जान से प्यारी है अपनी आज़ादी|
भारत की सेना के हम जवान, हिन्दोस्तान की हम हैं शान|

टाईगर हिल पर किया जब कब्ज़ा दुश्मन ने इतरा के|
पल में दूर खदेडा उसको वो बिखर गया छितरा के|
पैर हमारे नहीं बांधते राखी, कुमकुम, चंदन रोली|
बंदूकों से मने दीवाली और दुश्मन के खून से होली|
अपनी जान की हमें न परवाह, हम ले लें दुश्मन की जान|
भारत की सेना के हम जवान, हिन्दोस्तान की हम हैं शान|

5 comments:

advocate rashmi saurana said...

bhut sundar. bilkul tik. jari rhe.

nav pravah said...

बिल्कुल सटीक जी,
सही कहाहाँ तो हैं हम
आलोक सिंह "साहिल"

Udan Tashtari said...

सही देशभक्ति गीत.

E-Guru Maya said...

रक्त में सुरसुरी सी होने लगी. बेहतरीन.

Anonymous said...

देश भक्ति का यही जज्बा है जो एम. सी. शर्मा जैसे जाँबाजों को आत्म आहुति का जुनून देता है . ....देश प्रेम को सैल्यूट !

© Vikas Parihar | vikas